मेरे ब्लॉग 'धरोहर' पर ताजा प्रविष्टियाँ

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

Thursday, January 1, 2009

भूल क्यों नहीं जाते गांधीजी को?






भूल क्यों नहीं जाते गांधीजी को?



मेरे मन में वर्षों से यह सवाल उठता रहा है की कोई भी नया विचार चाहे वह उपभोक्तावादी रहा हो (मैक्सिम, मेक्डोनाल्ड आदि ) या राजनीतिक, आध्यात्मिक अथवा धार्मिक ही क्यों न हो, गांधीजी के विचारों को निशाना बनाने की कोशिश क्यों करता है! जिस व्यक्ति को मरे हुए ६० साल हो चुके हैं, उससे अब इन विचारों या व्यक्तित्व को क्या भय हो सकता है! दुबले-पतले गांधीजी के विचारों ने भला कितनी जगह घेर रखी है कि किसी भी नए विचार को अपनी जगह बनाने के लिए गांधीजी को सरकाने की कोशिश करनी पड़ती है! अगर गांधीजी कि सोच, उनके विचार और उनका योगदान अप्रासंगिक और अव्यवहारिक है तो उसपर बार-बार प्रहार क्यों? भूल क्यों नही जाते उस गाँधी को? आख़िर उनके समकक्ष और उनके पूर्व के भी कई व्यक्तित्व और सोच को तो विस्मृत कर ही दिया गया है।
मगर यहाँ तो इसके विपरीत सारे विश्व में गांधीजी को जानने, समझने और अनुसरण करने के प्रयास किए जा रहे हैं। यह सारे प्रयत्न स्वैक्षिक हैं और स्थानीय परिस्थितियों से प्रभावित हैं, किसी संस्था या व्यक्ति द्वारा प्रायोजित नहीं। यह तथ्य इस बात को सिद्ध करने के लिए पर्याप्त है कि गांधीजी के विचार आज भी प्रासंगिक और व्यावहारिक हैं तथा इन्हे किसी प्रायोजित बैसाखी कि जरुरत नहीं।
गाँधीजी के विचारों में आज विश्व का एक बड़ा भाग विशेषकर युवा वर्ग आशा कि किरण देखता है। बापू के विचार एक वैश्विक धरोहर हैं और इन विचारों कि जितनी जरुरत वर्तमान विश्व में है उतनी और कभी नही रही। महात्मा गाँधी के विचारों को वर्तमान विश्व के परिप्रेक्ष्य में समझने और साझा करने का प्रयास है यह ब्लॉग। आशा है यह प्रयास सुधी व जागरूक व्यक्तित्वों को ध्यानाकर्षित करने में सफल होगा।

22 comments:

  1. आपने गांधी जी के विचारों के लिए ब्लॉग बना ही लिया
    आपको शुभकामनाएं
    सदा लिखते रहें
    नव वर्ष की भी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. हिन्दी के चिठ्ठा विश्व में आपका हार्दिक स्वागत है, मेरी समस्त शुभकामनायें स्वीकार करें… एक अर्ज है कि कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें ताकि टिप्पणी करने में कोई बाधा न हो… धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. वो गाँधी नहीं आँधी थे। आपको नव वर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  4. शुभकामनाओं व सुझावों के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  5. जब हम फर्जी गांधियों को सर माथे रखते है तो असली गाँधी को कैसे भूल सकते है यह तो हो ही नही सकता .

    ReplyDelete
  6. गांधी जी का कहा आज भी अनुकरणीय है ..

    ReplyDelete
  7. aalochnaaon ki aandhi me gandhi ji ke sapne nikharte hain,aur un alochnaaon se ladne ke liye aaj bhi ahinsatmak vichaar jivit hain aur desh ke liye sochta hain......jinhe desh ki jaden kamzor karni hoti hai,wah gaandhi ji ko bhulkar hi baitha hai.........
    bahut achha likha hai

    ReplyDelete
  8. आज के दौर में गाँधी जी के विचारों की ही सबसे ज़्यादा ज़रूरत है. यही सही वक्त है इस तरह के ब्लॉग की शुरुआत का. इत्तिफाक से ये मुहर्रम की भी शुरुआत है. जब अहिंसा के एक और अनुयायी इमाम हुसैन ने सच्चाई के लिए सब कुछ कुर्बान कर दिया था. अगर देश गांधीजी और मुसलमान इमाम हुसैन के विचारों को अपना ले तो न देश में और न इस्लाम में आतंकवाद रह जायेगा.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सराहनीय कदम अभिषेक ! गांधी कभी भी अप्रासंगिक नही हो सकते ! अपनी यशः काया में गांधी कालजयी हैं -मैं ख़ुद भी उनका प्रशंसक हूँ !

    ReplyDelete
  10. गाँधीजी के विचारों में आज विश्व का एक बड़ा भाग विशेषकर युवा वर्ग आशा कि किरण देखता है। बापू के विचार एक वैश्विक धरोहर हैं और इन विचारों कि जितनी जरुरत वर्तमान विश्व में है उतनी और कभी नही रही।
    सराहनीय कदम ....

    नव वर्ष की शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  11. इस ब्लॉग के माध्यम से गांधी जी के विचारों के प्रसारण का कार्य हो,इस शुभकामना के साथ- साधुवाद

    ReplyDelete
  12. bahut hi accha kaam kiya hai aapne...hame bhi gandhi jie ke vichaar bahut acche lagte hain...aapke next post ka intezaar rahega...likhte rahe...

    ReplyDelete
  13. sir
    apraasangik to wo vichar tab ho jaate hain jab ham unko aur unkee pariprekshya naheen samajh paate hain.
    aapko ek achhee shuruaat ke liye badhaai.

    ReplyDelete
  14. सच कहा है
    बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
    कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

    ReplyDelete
  15. नववर्ष की शुभ कामनाओं के साथ चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद ..............

    ReplyDelete
  16. सही कहा जीशान जी आपने. गांधीजी भी हज़रत इमाम हुसैन की शहादत को सत्य और अहिंसा की मिसाल मानते थे. इस संयोग की और ध्यान दिलाने का शुक्रिया.
    आप सभी टिप्पणीकारों का भी प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  17. आसमाँ ने सितारों जड़ी ओढ़ के चादर
    ज़मीं का हाथ पकड़कर कहा !चलो मेरी जान
    अपनी औलाद जिसे दुनिया कहती हैं इंसान
    उसकी खुशियों के वास्ते आओ एक दुआ मांगे .
    सारे संसार की हर एक ख़ुशी उन्हें देना मेरे मौला
    उनके सपनो को ताबीर हासिल हो किसी भी हाल
    उनकी दौलत,शोहरत और इज्ज़त मे हो खूब इजाफा
    उनकी हर ख्वाहिश को साकार बनाये नया साल .
    "दीपक" देहरी पर तेरी जलाते हैं हम ऐ जगतारक
    औलादें सब कुदरत की सबको नया साल मुबारक .
    कवि दीपक शर्मा
    सर्वाधिकार सुरक्षित @कवि दीपक शर्मा
    http://www.kavideepaksharma.co.in
    http://www.shayardeepaksharma.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. मैं बिल्कुल सहमत नहीं..
    कम से कम आज के माहौल में तो हमें खासकर पाकिस्तान- आतंकवादियों के मसलए पर गांधीजी के विचारों को त्याग कर कार्यवाही करनी ही होगी, वरना यूं ही बम काण्ड होते रहेंगे
    और हम गांधीजी को ढ़ोते रहेंगे।

    ReplyDelete
  19. नववर्ष् की शुभकामनाएं
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  21. us mahan aatma ko bhula pana kisi ke vash ki bat nahi, kam se kam m to unko bhula nahi paunga.

    ReplyDelete
  22. mujhe yakin nahi hota esa aadmi bhi aaya tha is matlabi duniya me.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...